कस्तूरचंद पार्क का कायाकल्प अतिशिघ्र


नागपुर शहर की विरासत है कस्तूरचंद पार्क जहॉं स्वाधीनता संग्राम की यादे जुडी हुई है, शहर के बीचो - बीच स्थित इस विशाल मैदान की उपयोगिता तभी होती है जब कोई बडी प्रदर्शनी हो रही हो या फिर किसी का भाषण होना हो, बाकी समय यह मैदान बिना किसी रख-रखाव के अपने आँसू बहाता रहता है| रात के अंधेरो में असामाजिक तत्वों की ऐशगाह कहलाने यानी इस पार्क के अंधेरे कोने शायद अब ज्यादा दिन तक ऐसे शर्मनाक दृश्योंे को झेल नहीं पायेंगे, क्यूंकि इस कस्तूरचंद पार्क का नाम भी विकास की सूची में टॉप पर है| अगले कुछ ही महिनों में यहॉं वाकिंग ट्रेक, साइक्लिगं ट्रेक के अलावा सेल्फी पाईंट जैसी सुविधायें शहर वासियों के नाम की जायेगी|
इन ट्रेक्स के आजू-बाजू सात प्रजातियों के वृक्ष लगाने का भी प्रस्ताव है शहर के सुप्रसिद्ध आर्किटेक्ट श्री अशोक मोखा द्वारा डिजाइन किये गये इस प्रोजेक्ट का पावर पाइन्ट पे्रजेन्टेशन विगत दिनो नगर के दो सुपुत्रो श्री देवेन्द्र फडनवीस (मुख्यमंत्री) तथा श्री नितीन गडकरी (केन्द्रीय मंत्री) को दिया| इस वाक-वे का रख रखाव सोलर इंडस्ट्रिज लिमिटेड करने जा रहा है ट्रेक सहित कस्तूरचंद पार्क का यह पूरा मैदान एक हरे-भरे विशाल हार के साथ पेडेन्ट की तरह दिखायी देगा |