सामने वाला आपसे बोल रहा है झूठ, ये १० निशानियां खोल देंगी पोल


बातचीत के तरीके जिससे यह जान सकते हैं कि सामने वाला आपसे सच बोल रहा है या झूठ?

कारोबारियों और ट्रेडर्स के लिए डील या प्रोजेक्ट पर काम करते हुए सबसे ज्यादा ये जानना जरूरी होता है कि सामने वाला आपसे सच बोल रहा है या झूठ क्योंकि इसमें उनका पैसा और कमिटमेंट दोनों जुड़ा होता है| यहां हम आपको ऐसे बॉडी लैग्वेज और बातचीते के तरीके बता रहे हैं जिससे आप यह जान सकते हैं कि सामने वाला आपसे सच बोल रहा है या झूठ| ये हैं वो १० तरीके जिससे आप पता कर सकते हैं कि आपसे बात करने वाला आपको झूठ तो नहीं बोल रहा..

तेजी से बदलते हैं हेड पोजिशन
बिजनेस इन्साइडर की रिपोर्ट के मुताबिक अगर आप किसी से डायरेक्ट सवाल पूछते हैं और सामने वाला अचानक हेड मूवमेंट करने लगता है| तो समझ जाइए सामने वाला आपसे झूठ बोल रहा है| झूठ बोलने वाला अपना जवाब देने से पहले अपना सिर पीछे करता है, नीचे झुकाता है, सर एक तरफ को टेढ़ा करता है, तो वह आपसे झूठ बोलने वाला है|

जरूरत से ज्यादा देते हैं जानकारी
जब कोई आपको जरूरत से ज्यादा जानकारी दे तो समझ जाए कि सामने वाला झूठ बोल रहा है| झूठे लोग जरूरत से ज्यादा बोलते हैं क्योंकि उनको ऐसा लगता है कि ऐसा करने सामने वाला उनकी बातों पर भरोसा करेंगे|

शब्दों और वाक्यों को करते हैं रीपिट
झूठ बोलने पर ये अक्सर होता है कि बोलने वाला अपने शब्दों और वाक्यों को रीपिट करता है| वह दूसरों को भरोसा दिलाने की कोशिश करता है कि वह सच बोल रहा है| इसके लिए वह शब्दों और वाक्यों को रीपिट करता है| जैसे वह ये बार-बार कहते हैं कि.. मैंने नहीं कहा.. मैंने नहीं कहा... बार बार एक ही बात रीपिट करने से उन्हें सोचने के लिए समय मिल जाता है|

अपने चेहरे को छूने या कवर करने की करते हैं कोशिश
झूठ बोलने वाले लोग अपने चेहरे को छूने या कवर करने की कोशिश करते हैं| वह अपने चेहरे को हाथों से कवर करते हैं या उंगलियों से अपने चेहरे को छूते हैं| जब लोग किसी बात का जवाब नहीं देना चाहते या डील नहीं करना चाहते तो अक्सर ऐसा करते हैं|

 

बॉडी पार्ट्स को करते हैं कवर

जब सवाल पूछने के बाद पर समाने वाला अपने गले, हाथ, पैर या पेट पर हाथ लगाए तो समझ जाए कि वह झूठ बोल रहा है| एक्सपर्ट के मुताबिक ऐसा अक्सर होता है जब सामने वाला झूठ बोल रहा होता है तो वह अपने आगे के हिस्से को कवर करने की कोशिश करता है| या अपने गले पर हाथ रखता है या टच करने की कोशिश करता है|

अपने पैरों को करते हैं फोल्ड
सवाल पूछने पर जब सामने वाला अपने पैरों को फोल्ड करता है या एक पैर पर दूसरा पैर रखता है, तो समझ जाइए वह झूठ बोल रहा है| कोई भी व्यक्ति अक्सर बातचीत के दौरान पैर तब फोल्ड करता है तब वह उस सवाल को खत्म करना चाहता है या जाना चाहता है| इससे आप झूठ बोलने वाले को पकड़ सकते हैं|

बिना पलक झपकाएं घूरते हैं
जब लोग झूठ बोलते हैं तो अक्सर उनका आई कॉन्टेक्ट ब्रेक होता है| लेकिन झूठ बोलने वाले लोग आई कॉन्टेक्ट को बिना पलक झपकाएं बनाए रखते हैं| ताकि वह अपने झूठ को सच को बनाए रखें और बच जाएं|


बदल जाता है सांस लेने का तरीका
जब कोई आपसे झूठ बोलता है तो उसका सांस लेने का तरीका बदल जाता है| वह तेजी से सांस लेना शुरू कर देता है| इन्हें रिफ्लेक्स एक्शन कहते हैं| उनके सांस लेने के तरीके के साथ वह कंधा ऊंचा करता हैं और उसकी आवाज भी लड़खड़ाने लगती है| झूठ बोलने पर उनका हर्ट रेट और ब्लड फ्लो बदलता है जिसके कारण सांस लेने का तरीका बदलता है| शरीर में ये सभी परिवर्तन तब होते हैं जब आप नर्वस होते हैं या परेशान होते हैं|

बोलना हो जाता है मुश्किल
एक्सपर्ट के मुताबिक झूठ बोलने वाले के लिए बोलना मुश्किल हो जाता है| ऐसा इसलिए होता है क्योंकि झूठ बोलने पर उनका नर्वस सिस्टम ऑटोमेटिकली घटने लगता है और स्लाइवा फ्लो कम होने लगता है| ऐसा परेशानी और झूठ बोलते समय होता है| झूठ बोलने वाला अक्सर अपने होठों को दबाता है या दांतों से काटने लगता है|